top of page
Image by NordWood Themes
Image by NordWood Themes

जागते और जगाते रहिए



जागना और जगाना

कल्याण के भावार्थ में बेजोड़ है

दूसरा जागे न जागे

बाहर आपके रोएँ रोएँ पर

भीतर की हर एक कोशिका पर

चित्त की छोटी से छोटी हर हरकत पर

भाव की हर उमक पर

दूसरों की अनगिनत आँखें

धधकती मशाल की तरह धर दी जाती हैं

अपने भीतर आपके होने का रेशा रेशा साफ़ दिखता है

जो आँखें दिखा रही हैं अगर सच है तो मुक्त होते जाइए

झूठ है तो फिर क्या मुस्कुराइए

आगे बढ़िए

जागते जाइए

इसलिए ख़ूब जागते और जगाते रहिए


धर्मराज

07 April 2023

3 views0 comments

Comments


bottom of page