top of page
Image by NordWood Themes
Image by NordWood Themes

प्रेम जागरण



प्रेम की अंगड़ाई लेते प्रेम ने

अपनी एक भुजा

प्रेम के अनंत आकाश में भेजी

दूजी प्रेम के अतल पाताल में

आकाश में उठती भुजा से पाताल में उतरती भुजा ने पूछा

प्रियतम क्या अब हम कभी न मिलेंगे

यह बिछुड़ने की लीला

क्या फिर कभी न मिलन में पूरी होगी

क्या हम फिर कभी प्रेम न होंगे

पाताल उतरती भुजा को

आकाश में उठती भुजा ने बड़े प्रेम से कहा

प्रियतमा निश्चित मिलेंगे

प्रियतमा ने तपाक से पूछा पर कहाँ

प्रियतम ने कहा मनुष्य में

मनुष्य में तुम प्रकृति होगी

और मैं परमात्मा

जब जागरण उस बड़भागी में

अवसर पाकर डोलेगा

वहीं हम मिलेंगे

वहीं तुम परमात्मा हो उठोगी

और मैं प्रकृति

न न हम दोनों फिर से प्रेम हो उठेंगे

प्रेयसी पाताल में

प्रेमी आकाश में खो गया

प्रेम अब कहीं कहीं कभी कभी बड़भागी मनुष्य को पोंछ

महामिलन में नाच उठता है

धर्मराज

18 February 2022


6 views0 comments

Comments


bottom of page