top of page
Image by NordWood Themes
Image by NordWood Themes

पीठ हो गई है




क्या दिखता उसको जो

हर तरफ़ उसकी पीठ हो गई है


कोई कहता लो

प्रेम सिक्त आलिंगन लो

नयनों पर यह अधरों का चुम्बन लो

बिना मुड़े वह मदमाता जाता

किसने चूमा भाल उसका

जो हर तरफ़ उसकी पीठ हो गई है


कोई कहता लो

देखो यह आत्मा

यह तो रहा परमात्मा

नहीं आत्मा न परमात्मा

तो लो देख लो यह रही अनात्मा

फिर क्यूँ नहीं बँधता उसका दर्शन

क्या दिखता उसको

जो हर तरफ़ उसकी पीठ हो गई है


कोई कहता लो

यह हास लो परिहास लो

लो यह उन्मुक्त अट्टहास लो

बिना मुड़े मंद मंद मुस्काता वह

किस प्रसाद का झरना फूटा उसमें

जो हर तरफ़ उसकी पीठ हो गई है


कोई कहता लो

यह शास्त्रसम्मत ज्ञान लो

मुक्ति का प्रमाण लो

शब्दों के छल को छलते

किस अपूर्व बोध ने उसके प्राण धरे

जो हर तरफ़ उसकी पीठ हो गई है


कोई कहता लो

इन कंधों पर टिक लो

संग लो साथ लो

बिना मुड़े वह एकाकी

रमता जाता है

किसने पकड़ी उँगली उसकी

जो हर तरफ़ उसकी पीठ हो गई है


कोई कहता लो

यह नृत्य लो गीत लो

लो यह अनूठा संगीत लो

सब अनसुना कर

अपने में झूमता डोलता जाता

किस महारास में डूबा वह

जो हर तरफ़ उसकी पीठ हो गई है


जब सब चुप हो जाते

वह खुद को खुद से कह उठता

लो हो गया चिर अभीप्सित कल्याण मेरा

पा ही लिया उसने उसको जो कभी न बिछुड़ा

लेकिन वह खुद की भी न सुनता

मैं से अलंघ्य दूरी पर खड़ा कौन वह

आख़िर उसने क्या पाया

जो खुद की तरफ़ भी उसकी

पीठ हो गई है


धर्मराज

30/07/2021

2 views0 comments
bottom of page