top of page
Image by NordWood Themes
Image by NordWood Themes

यह हो चुका



क्या कभी आपने कहा है कि

यह हो चुका

शब्दों में नहीं

ख़्यालों में नहीं

बल्कि इसके अपने पूरे होने में


कभी आपने कहा है

जैसे झपकने से पहले आँखें कह चुकती हैं

पिछली झपक को


कभी आपने कहा है

जैसे स्वाँसें कह चुकती हैं स्वाँस लेने से पहले

स्वाँस छोड़ने को


कभी आपने कहा है

जैसे झरती पाती कह चुकती है

ठीक झरने से पहले

उसकी शाखा को


कभी आपने कहा है

जैसे पर्वत की चोटी कह चुकती है अँधियारे को

ठीक उगते सूर्य की पहली किरण से चूमे जाने से पहले


कभी आपने कहा है

जैसे लौ कहती है मिट्टी के दीये से

ठीक बुझने से पहले


यदि सच में ही आपने खुद के लिए

अपने पूरे होने से कहा है कि

यह हो चुका

बिना अतीत वर्तमान और भविष्य के हस्तक्षेप के

बिना यहाँ और वहाँ के ख़्याल के

तो आप हो चुकते हैं


आप हो चुकते हैं

और वहाँ ‘वह’ होता है


धर्मराज

16/11/2020


6 views0 comments

Comments


bottom of page