top of page
Image by NordWood Themes
Image by NordWood Themes

वर्धमान कृतज्ञता

अपनी स्वर्णिम आभा से

जल तरँग को कंचन करती जाती

गोधूलि में विदा किरण को गलते देख

कृतज्ञता में नवे सिर ने चाहा

गलने से पहले

क्षण भर को ही सही

मैं कहीं तो अपनी

कृतज्ञता की यह अमूल्य धरोहर अर्पित कर जाऊँ


इस भाव से उसने सबसे पहले दुःख की तरफ़ निहारा

अरे! वह तो वहाँ अपनी नींव के साथ मिट चुका था

न दुःख सही सुख को ही अर्पित कर दूँ

उसने सुख की ओर नज़र फेरी

वहाँ भी अनंत शून्य के अतिरिक्त कुछ भी न था

शत्रु के मित्र के अशुभ के शुभ के

आकार के निराकार के

काल के अकाल के

न जाने कितनों के चरण खोजे

कि माथ रख दूँ

आश्चर्य! कहीं कोई चरण ही न शेष बचा था


कृतज्ञता के धन्य अवतरण ने

सृष्टि से शीश तो शीश

चरण भी पोंछ दिए थे


थककर गलने को उद्यत नवे सिर को सहसा यह बोध कौंधा

किस कृतज्ञता से यह शीश नवा

आख़िर किस अज्ञेय कृतज्ञता ने सहर्ष

इस शीश को गलने को उद्यत किया

अकारण अवतरित इस कृतज्ञता के अर्पित करने को

अर्पित करने वाला यह कौन मैं शेष है

यह प्रश्न और

उस अंतिम पवित्र मैं ने प्रश्न को अपनी आहुति दे दी

अब वहाँ अबाध अज्ञेय अकारण सनातन कृतज्ञता वर्धमान है


- धर्मराज

15/11/2021





51 views0 comments
bottom of page