top of page
Image by NordWood Themes
Image by NordWood Themes

वह मुस्का जाता है



ओटें सब

आड़ें सब जब छिनती जाती हैं

जब साये सब उठते जाते हैं

टेकें जब सब ही गिरने लग जाती हैं

पाँवों के नीचे की धरती भी जब

पूरी खिसकी जाती है

मिटने को आतुर वह

मुस्का जाता है

पेड़ की झरती पाती जब नचती जाती है

बादलों में उड़ती बूँद सागर में

जब चुपचाप समा जाती है

भोर की बेला में जब

आख़िरी तरैया डूबने को आती है

वह मुस्का जाता है

कुछ निराला घटने लगा है

उसके होने के पार

जो ऐसा रचता जाता है कि जितना भी जैसे भी

ज्यों ही वह मिट पाता है

मुस्का जाता है

धर्मराज

28/10/2020


1 view0 comments
bottom of page