top of page
Image by NordWood Themes
Image by NordWood Themes

सधना पथिक


पथिक अगर प्यासे हो

अँजुरी में भरकर जल सम्मुख हो

तो पी लो

इसके पहले कि जल का विज्ञान बने

जिसमें खोकर

तुम प्यासे ही रह जाओ

आँखें हैं

खोलो दिखने को अवसर दो

इसके पहले कि

दिखने का शास्त्र बने

जिसमें खोकर तुम अंधे रह जाओ

ज़िंदा हो

तो जो जीवन है जी भरकर जीते जाओ

इसके पहले कि

जीवन का सिद्धांत बने

जिसमें घुटकर जिए बिना ही मर जाओ

प्रेम है

उलीचो बाँटो तिल भर भी बचे बिना

पूरा ही बँट जाओ

इसके पहले कि यह उमग उमग तुम्हारी आहुति करते प्रेम से

कविताओं का जग तुम्हें ठग ले जाए

जागे हो

तो जगते जाओ

इसके पहले कि जगना

शब्दों ख्यालों की बागुड़ का विलास बने

जिस जगना ख़्याल के विलास में

फिर से सो ही जाओ

सधना पथिक

इसके पहले मन उस पार की व्याख्या करे

पहुँचने को सीढ़ियाँ गढ़े

समेटो ख़ुद को

अंतिम छलाँग लगा जाओ


धर्मराज

18 February 2023


17 views0 comments

Recent Posts

See All
bottom of page